अब द्वारका एक्सप्रेसवे पर दौड़ेगी मेट्रो

द्वारका एक्सप्रेसवे (एनपीआर) को एनएचएआई को करेगा टेकओवर
छह लेन के एनपीआर को एनएचएआई रिडिजाइन कर बनाएगा 12 लेन

कोट
एनपीआर के 150 में से 90 मीटर हिस्सा एनएचएआई को हैंडओवर करना है। अथॉरिटी इस एक्सप्रेसवे को रिडिजाइन कर मोडिफाई करेगी। एक्सप्रेसवे की लेन 12 करने के साथ ही इस पर मेट्रो चलाने का भी प्लान है। हूडा हैंडओवर प्रोसेस के लिए पूरी तरह तैयार है।
यशपाल यादव, प्रशासक, हूडा
एनबीटी न्यूज, गुड़गांव
खेड़कीदौला से दिल्ली के द्वारका को कनेक्ट करने के लिए बन रहे द्वारका एक्सप्रेसवे (एनपीआर) से मेट्रो गुजरेगी। इसके लिए बाकायदा डिवाइडर से होते हुए मेट्रो चलाने की प्लानिंग है। डिवाइडर के अंदर ही मेट्रो के पिलर बनेंगे और दोनों साइड वाहन दौड़ेंगे। मेट्रो को इफ्को चौक, खेड़कीदौला या फिर मानेसर से कनेक्ट किया जाएगा। इसके अलावा एक्सप्रेसवे जल्द ही मोडिफाई किया जाएगा। अब एनएचएआई हूडा से इसे टेकओवर करने जा रहा है। एनएचएआई ने हूडा से संबंधित डिजाइन और ड्रॉइंग मांगे हैं। एनएचएआई इसे नए सिरे से मोडिफाई करने के डिजाइन तैयार करेगा। मोडिफिकेशन के तहत सड़क 12 लेन की होगी, जो अभी 6 लेन की है। सड़क पर ग्रीनरी का भी खास ख्याल रखा गया है।
90 मीटर NHAI के पास
एनपीआर की चौड़ाई करीब 150 मीटर है। वर्तमान में सड़क के अलावा यहां मास्टर सीवर, वॉटर समेत अन्य प्रकार की लाइनों व ग्रीन बेल्ट, सर्विस लेन के लिए भी स्पेस है। एनएचएआई इसे टेकओवर कर नए सिरे से डिजाइन करेगा। 150 मीटर में से बीच का 90 मीटर हिस्सा हूडा एनएचएआई को हैंडओवर करेगा। दोनों साइड में 60 मीटर हिस्सा हूडा के पास रहेगा। हूडा इस 60 मीटर हिस्से से एनपीआर के साथ लगते सेक्टरों के लिए वॉटर सप्लाई, सीवरेज समेत अन्य सभी प्रकार की सर्विसेज देगा।
6 लेन को NHAI बनाएगा 12 लेन
फिलहाल एनपीआर पर छह लेन की सड़क है। डिवाइडर के दोनों साइड वाहनों के लिए 3-3 लेन हैं। लेकिन जल्द ही यह 12 लेन का हो जाएगा। दिल्ली के द्वारका से खेड़कीदौला पर एनएच-8 तक यह 12 लेन का होगा। डिवाइडर के दोनों ओर 6-6 लेन डिवेलप की जाएंगी।
सेंट्रल वर्ज में बनेंगे मेट्रो पिलर
एनएचएआई की ओर से हूडा को भेजे गए प्रपोजल में बताया गया है कि एनपीआर के बीच में डिवाइडर से होते हुए मेट्रो जाएगी। डिवाइडर के अंदर ही मेट्रो के पिलर बनेंगे और दोनों साइड वाहन दौड़ेंगे। मेट्रो को दिल्ली द्वारका के स्टेशन से जोड़ा जाएगा। ज्यादा संभावना है कि एयरपोर्ट लाइन से मेट्रो को जोड़ा जा सकता है। मेट्रो को इफ्को चौक या खेड़कीदौला से आगे मानेसर तक जोड़ने का प्लान है। हालांकि इसका फैसला बाद में किया जाएगा।
हैंडओवर की प्रोसेस फाइनल
हूडा ने प्रोजेक्ट से जुड़े डिजाइन व ड्रॉइंग पिछले दिनों एनएचएआई के हवाले कर दिए थे। डिजाइन पर एनएचएआई ने कुछ सवाल उठाए हैं। हूडा से द्वारका एक्सप्रेसवे के साथ लगते गांवों को जा रही रोड और एक्सप्रेसवे के इंटरसेक्शन पॉइंट के संबंध में कुद सवाल पूछे गए हैं। हूडा ने हैंडओवर प्रोसेस लगभग पूरा कर लिया है।
बसई आरओबी का काम पूरा
सेक्टर 100 और 37डी क्रॉसिंग पर रेलवे ओवरब्रिज बनकर तैयार है। इसकी लागत पर करीब 150 करोड़ रुपये का खर्च आया है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल जल्द ही इसका उद्घाटन करेंगे। बताया जा रहा है कि आरओबी की लंबाई करीब 1200 मीटर है।
द्वारका एक्सप्रेसवे की कुल लंबाई करीब 28 किमी
लगभग 10 किमी हिस्सा दिल्ली में पड़ता है
18 किमी हिस्सा हरियाणा में पड़ता है।
करीब 15 किमी का निर्माण हो चुका है।
बाकी 3 किमी हिस्से पर निर्माण बाकी है।
दिल्ली का हाल
दिल्ली के एरिया में पड़ने वाले करीब 10 किलोमीटर हिस्से पर एसडीएम बसंत विहार व एसडीएम कापसहेड़ा ने जमीन अधिग्रहण का प्रोसेस शुरू किया हुआ है। जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया एनएचएआई एक्ट के तहत की जा रही है, ताकि इसे जल्द पूरा किया जा सके।
इनको होगा फायदा
इसके बनने के बाद से रोड के दोनों ओर डिवेलप हो रहे सैकड़ों रेजिडेंशल व कमर्शल प्रोजेक्ट को फायदा होगा। इसके अलावा खेड़कीदौला, गाड़ौली कलां, गाड़ौली खुर्द, हरसरू, बसई, धनकोट, खेड़की माजरा, दौलताबाद, न्यू पालम विहार, धनवापुर, बाबूपुर, सराय अलावर्दी, हयातपुर, बढ़ा, सिकंदरपुर, बामडौली, सेक्टर 9, 9ए, 10, 10 ए के अलावा आस-पास लगते सेक्टर्स को भी लाभ पहुंचेगा।
———-

Source: https://goo.gl/3ODQgL